प्रधानमंत्री के विजन ’’मेक इन इंडिया’’-मेड इन इंडिया’’ एवं डिजाईन इन इंडिया को दिशा दे रहा है आर्च-

प्रधानमंत्री के विजन ’’मेक इन इंडिया’’-मेड इन इंडिया’’ एवं डिजाईन इन इंडिया को दिशा दे रहा है आर्च-

प्रधानमंत्री के विजन ’’मेक इन इंडिया’’-मेड इन इंडिया’’ एवं डिजाईन इन इंडिया को दिशा दे रहा है आर्च- गृहमंत्री

जयपुर 12 फरवरी। आर्च कॉलेज युवाओं को फैशन ज्वैलरी, इंटीरियर ग्राफिक्स एवं हस्तशिल्प जैसी विधाओं में प्रशिक्षित कर रोजगारोन्मुखी बना रहा है।यह संस्थान मुख्यमंत्री एवं देश के प्रधानमंत्री के विजन पर आधारित ’’मेक इन इंडिया’’-मेड इन इंडिया’’ एवं डिजाईन इन इंडिया जैसे राष्ट्रीय मिशन को दिशा प्रदान कर रहा है।

यह बात गृहमंत्री गुलाब चन्द कटारिया ने सोमवार को मालवीय नगर स्थित आर्च कॉलेज ऑफ डिजाईन एण्ड बिजनेस, जयपुर के 16वें दीक्षान्त समारोह के आयोजन में मुख्य अतिथि के रूप में भाग लेते हुए कही।

कटारिया ने इस अवसर पर कहा कि यह संस्थान गत 17 वर्षाें से डिजाईन के क्षेत्र में निरन्तर कार्य कर रहा है। यहॉ राजस्थान के अतिरिक्त अन्य राज्यों के युवा भी डिजाईन शिक्षा को अपना करियर बनाने हेतु अध्ययनरत हैं । युवाओं का चयन राष्ट्रीय स्तर की चयन प्रतियोगिता । जो हिन्दी एवं अंग्रेजी दोनों माध्यमों में सम्पन्न की जाती है, के माध्यम से किया जाता है। संस्था में संचालित विभिन्न विभिन्न स्नातक एवं स्नात्कोत्तर कार्यक्रमों को राजस्थान विश्वविधालय एवं राजस्थान स्किल विश्वविधालय से सम्बद्ध किया गया है।

गृहमंत्री कटारिया ने दीक्षान्त समारोह के अवसर पर फैशन डिजाईन में ऑवर आल बेस्ट प्रदर्शन करने पर यामिनी विजय, ज्वेलैरी डिजाईन में ऑवर आल बेस्ट प्रदर्शन करने पर आशिष जांगीड तथा इंटिरियर डिजाईन में ऑवर आल बेस्ट प्रदर्शन करने पर अतुल प्रकाश को ट्राफी प्रदान कर सममानित किया।

आर्च की निदेशक अर्चना सुराणा ने बताया कि आर्च की स्थापना सन् 2000 में आर्च एज्यूकेशनल सोसायटी के अन्तर्गत की गई हैं ताकि विद्यार्थियों को विशेषज्ञों द्वारा डिजाईन की शिक्षा दी जा सके। उन्होंने बताया कि पिछले कुछ वर्र्षाे में अन्तराष्ट्रीय पर भी प्रतिनिधित्व बडा हैं स्वीडन, जापान, स्पेन, कनाडा, नेपाल, ब्राजील, कुवेत आदि कई देशों के फैकल्टीज और विद्यार्थियों ने हमारा साथ दिया हैं। आर्च कॉलेज ऑफ डिजाईन एण्ड बिजनेस के कोर्सज रोजगार आदि आधारित हैं और स्वरोजगार तकनीकी आधारित शिक्षा पर भी उतना ही जोर दिया जाता हैं ताकि विद्यार्थियों में रचनात्मक पहलुओं का भी विकास हो सके। स्वरोजगार को प्रोत्साहित करने के लिए आर्च ने कई कार्यशालाओं के आयोजन किया है ताकि सरकारी संस्थाओं द्वारा प्रायोजित पाठयक्रमों के अनुसार विद्यार्थियों को तैयार किया जा सके।

इस अवसर पर आर.आई.एस.यू. के वाईस चांसलर डॉ ललित के. पंवार, मैनचेस्टर मेट्रोपालिटन यूनिवर्सिटी,यूके की हैड जाने लेडबुरी, एडवरटाईजमेन्ट एवं फिल्म डायरेक्टर प्रकाश कक्कड, सीनियर जर्नलिस्ट धीरज जैन एवं अन्य ने भी अपने विचार व्यक्त किये।

Leave a Reply